देश से बढ़ा बासमती और गैर बासमती चावल का निर्यात, कुल चावल निर्यात 73 लाख टन के पार।

Posted by - October 6, 2022

भारत दुनिया के सबसे बड़े चावल निर्यातकों में से एक है, वैश्विक बाजार में भारतीय चावल का दबदबा बना हुआ है, भारत दूसरे देशों के मुकाबले अच्छी गुणवक्ता और सस्ता चावल वैश्विक बाजार में उपलब्ध कराता है… यही वजह है कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में भारतीय चावल की मांग लगातार बढ़ रही है। बासमती चावल का निर्यात एपीडा

साल 2022 में अप्रैल से मई के दौरान 84 लाख टन के पार मूंगफली का निर्यात

Posted by - September 18, 2022

चालू खरीफ सीजन के दौरान मूंगफली का रकबा बीते साल से पीछे चल रहा है….कृषि मंत्रालय की ओर से 29 जुलाई को जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार… साल 2022 में खरीफ मूंगफली की बुवाई 37 लाख 41 हजार हेक्टेयर में हो चुकी है जबकि बीते साल इस दौरान मूंगफली की खेती 41 लाख 32 हजार हेक्टेयर

क्या आप जानते है साल 2020-21 के दौरान 7 गुना बढ़ा मक्का का निर्यात

Posted by - September 18, 2022

देश से होने वाले मक्का के निर्यात में इजाफा देखने को मिला है वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान निर्यात में 7 गुना से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है। वाणिज्य मंत्रालय की संस्था एपीडा के अनुसार 2020-21 के दौरान देश से 28 लाख 79 हजार टन मक्का का निर्यात हुआ है जबकि वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान देश से सिर्फ 3 लाख 70 हजार

भारत ने सीजन 2022 के दौरान लद्दाख ने 35 एमटी ताजा खुबानी का निर्यात किया।

Posted by - September 16, 2022

सरकार लद्दाख की खुबानी का निर्यात बढ़ाने की कोशिश कर रही है… इसी मकसद के तहत  खुबानी मूल्य श्रृंखला के हितधारकों को सहायता देने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है… वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ये काम एपीडा के माध्यम से  ‘लद्दाख एप्रिकोट’ यानी लद्दाख खुबानी ब्रांड के तहत कर रहा है… दूसरी ओर एपीडा

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में मिठास घोल रहा है भारतीय गुड़

Posted by - September 16, 2022

देश में गुड़ को 3000 सालों से आयुर्वेदिक चिकित्सा में मीठे के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है। गुड़ के खनिज तत्व में कैल्शियम, फास्फोरस, मैग्नीशियम, पोटेशियम, लौह, जिंक और कुछ मात्रा तांबे की भी होती है। इसलिए गुड़ को ऊर्जा का एक अच्छा स्रोत माना जाता है। खेतों में कई महीने तक फसल लगने के बाद किसान गन्ना काटते हैं, उसकी कोल्हू में पेराई करते हैं

क्या आप जानते है कि भारत ग्लोबली नारियल उत्पादन में किस स्थान पर है।

Posted by - September 15, 2022

भारत ने नारियल के क्षेत्र में काफी प्रगति की है, भारत नारियल के उत्पादन व उत्पादकता में सबसे आगे है और विश्वस्तर पर तीसरे स्थान पर हैं। नारियल की उत्पादकता प्रति हेक्टेयर 9687 नट है, जो विश्व में सर्वाधिक है।नारियल से बने उत्‍पाद व उद्योग धीरे धीरे बढ़ रहे है, जिसकी वजह से किसानों को रोजगार मिल रहा हैं। नारियल की खेती मुनाफे का सौदा

क्या आप जानते है भारत हर साल कितना धनिया निर्यात करता है।

Posted by - September 14, 2022

धनिये की मांग अंतर्राष्ट्रीय बाजार में साल दर साल बढ़ रही है… बीते पांच सालों के मुकाबले इस साल धनिये का निर्यात सबसे ज्यादा हुआ है… वहीं घरेलू स्तर पर धनिये की पैदावार में 20 प्रतिशत की बढ़त देखने को मिल सकती है जिसका असर कृषि उपज मंडियों में धनिये के भाव पर पड़ सकता है। पांच

देश से होने वाले काजू के निर्यात में आई कमी

Posted by - September 12, 2022

देश से होने वाले काजू के निर्यात में इस साल कमी देखने को मिली है… काजू का निर्यात बीते साल के मुकाबले घटा है…जिसका असर काजू के भाव पर पड़ सकता है… बीते 5 सालों के दौरान काजू के निर्यात में घटत बढ़त देखने को मिली है। कृषि  मंत्रालय की ओर से जारी ताजा आंकड़ो के मुताबिक साल 2016-17 के दौरान काजू का निर्यात 5 हजार 278 करोड़ रुपये

भारत में कौनसी कॉफी मिलती है रोबस्टा या अरेबिका

Posted by - September 12, 2022

देश से होने वाले कॉफी के निर्यात में इस साल खासी बढ़त देखने को मिली है… अतंर्राष्ट्रीय बाजार में कॉफी का निर्यात बीते साल के मुकाबले 10 प्रतिशत बढ़ा है। वहीं घरेलू स्तर पर साल 2021-22 के दौरान रोबस्टा कॉफी की पैदावार में 9 प्रतिशत का इजाफा देखने को मिल सकता है उम्मीद है कि इसका असल कॉफी के बाजार भाव

क्या आप जानते है भारत के मसालें किन देशों में भेजे जाते है।

Posted by - September 10, 2022

घरेलू स्तर पर मसाले की खेती में गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा गया है, जिसका असर वैश्विक बाजार में भारतीय मसालों के निर्यात मांग पर पड़ा है। हर साल भारतीय मसालों की मांग अंतर्राष्ट्रीय बाजार में बढ़ती जा रही है… भारतीय मसाला बोर्ड की ओर से जारी ताजा आंकड़ो के अनुसार साल 2021-22 के दौरान कुल मसालों का निर्यात 15 लाख 31 हजार 154 टन के पार पहुंच गया है भारत

अंतर्राष्ट्रीय बाजार पर चढ़ा भारतीय काली मिर्च का स्वाद

Posted by - September 9, 2022

विश्व स्तर पर भारत मसालों के उत्पादक और निर्यातक के रुप में  पहले स्थान जाना जाता है। भारत के मसालों की मांग वैश्विक बाजार में  साल दर साल बढ़ती जा रही है… देश से होने वाले कुल मसालों के निर्यात की बात करें तो… भारतीय मसाला बोर्ड की ओर से हाल ही में जारी ताजा आकड़ो के अनुसार… साल 2021-22 के दौरान देश से कुल

भारत बन रहा है दुनिया का सबसे सस्ता दवाखाना

Posted by - July 25, 2022

भारत दुनिया के सबसे सस्ते दवाखाने के रूप में ऊभर रहा है, जिसका सीधा लाभ अब फ़ार्मा निर्यात को होने वाला है। भारत वैश्विक दवाखाने के तौर पर जाना जाता है। इसकी वजह यह है कि दुनिया के लगभग 150 देशों में किसी न किसी रूप में भारतीय दवाओं का निर्यात होता है। साल 2020-21