वेटिंग ई-टिकट के साथ अब यात्रा पर है पाबंदी, लेकिन रेलवे दे रहा है यह सुविधा

63 0

जब तक टिकटों का डिजिटलीकरण नहीं हुआ था, तब तक यात्रियों को वेटिंग टिकेट के साथ ट्रेन में सफर करने की सुविधा दी जाती थी, लेकन रेलवे ने यात्रा के नियमों में अब बदलाव कर दिया है। अब कोई भी यात्री बिना कन्फ़र्म ई-टिकट के यात्रा नहीं कर सकता है। अगर आप वेटिंग ई-टिकेट के साथ यात्रा करते हैं, तो आपको 500 रुपये तक का जुर्माना देना पड़ सकता है। हालांकि, यह नियम सिर्फ़ तब लागू होता है, जब आप IRCTC से ऑनलाइन टिकट बुक कराते हैं, जबकि स्टेशन विंडो से खरीदा गया टिकट अब भी मान्य होता है। यानि अगर स्टेशन के विंडो से वेटिंग टिकेट को खरीदा जाता है, तो यात्रा के लिए अब भी उसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

रेलने ने शुरू की विकल्प योजना

भारतीय रेल से यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए वेटिंग टिकट के कन्फर्मेंशन का इंतज़ार करना एक जुए की तरह होता है। ई-टिकेट का कन्फ़र्म न होना कई बार परेशानी का सबब बन सकता है। हालांकि, रेलवे ने इस समस्या का एक समाधान निकाला है। एस योजना का नाम है VIKALP

इस योजना के तहत वेटिंग टिकेट वाले यात्रियों को वैकल्पिक ट्रेनों में सीटें उपलब्ध कराई जाती हैं। हालांकि, यात्रियों को वैकल्पिक ट्रेनों में कन्फ़र्म टिकट के साथ सीटें मिलेंगी या नहीं यह सीटों की उपलब्धता पर निर्भर करता है। बता दें कि विकल्प योजना को एक बार चुनने के बाद उसमें कोई बदलाव नहीं किया जा सकता। इस योजना से जुड़े नियमों को जानने के लिए www.indianrail.gov.in पर जाएं.

योजना को शुरू करने का मकसद

भारतीय रेलवे ने इस योजना को इस मकसद से शुरू किया था, ताकि अन्य ट्रेनों में खाली जगह को भरा जा सके साथ ही यात्रियों को भी अपने गंतव्य तक पहुंचने में कोई परेशानी न हो। हालांकि, आपकी जानकारी के लिए बता दें कि विकल्प योजना सिर्फ़ उन टिकटों के लिए उपलब्ध हैं जिन्हें IRCTC की वेबसाइट के ज़रिए बुक किया जाता है। विकल्प योजना को लेकर रेलवे के कुछ नियम हैं। इन नियमों को जानने के लिए www.indianrail.gov.in पर जाएं.

Related Post

प्रधानमंत्री ने गुजरात में गांधीनगर और मुंबई के बीच नई वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाई।

Posted by - September 30, 2022 0
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने गांधीनगर-मुंबई वंदे भारत एक्सप्रेस को गांधीनगर स्टेशन पर हरी झंडी दिखाकर रवाना  किया और वहां से कालूपुर रेलवे स्टेशन तक उस ट्रेन से यात्रा की। जब वे गांधीनगर स्टेशन पहुंचे, तो प्रधानमंत्री के साथ गुजरात के मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल, गुजरात के राज्यपाल श्री आचार्य देवव्रत, केंद्रीय रेल मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव और केंद्रीय आवास एवं शहरी कार्य मंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी उपस्थित थे। प्रधानमंत्री ने वंदे भारत एक्सप्रेस 2.0 के ट्रेन के डिब्बों का निरीक्षण किया और ऑनबोर्ड सुविधाओं का जायजा लिया।श्री मोदी ने वंदे भारत एक्सप्रेस 2.0 के लोकोमोटिव इंजन के कंट्रोल सेंटर का भी निरीक्षण किया। इसके बाद प्रधानमंत्री ने गांधीनगर और मुंबई के बीच वंदे भारत एक्सप्रेस के नए और उन्नत वर्जन को हरी झंडी दिखाई और वहां से कालूपुर रेलवे स्टेशन तक ट्रेन से यात्रा की। प्रधानमंत्री ने रेल कर्मचारियों के परिवार के सदस्यों, महिला उद्यमियों और अनुसंधानकर्ताओं और युवाओं सहित अपने सह-यात्रियों के साथ भी बातचीत की। उन्होंने वंदे भारत ट्रेनों को सफल बनाने के लिए कड़ी मेहनत करने वाले श्रमिकों, इंजीनियरों और अन्य कर्मचारियों के साथ भी बातचीत की। गांधीनगर और मुंबई के बीच वंदे भारत एक्सप्रेस 2.0 गेम चेंजर साबित होगी और भारत के दो व्यापारिक केंद्रों के बीच कनेक्टिविटी को बढ़ावा देगी। इससे गुजरात के कारोबारियों को अहमदाबाद से गांधीनगर आने जाने के दौरान हवाई यात्रा जैसी सुविधाएं प्राप्त होगी और उन्हेंहवाई जहाज के महंगे किराए का वह भी नहीं उठाना होगा। गांधीनगर से मुंबई तक वंदे भारत एक्सप्रेस 2.0 से एक तरफ की यात्रा में लगभग 6-7 घंटे का समय लगने का अनुमान है। वंदे भारत एक्सप्रेस 2.0 का…

Leave a comment

Your email address will not be published.