ये है दुनिया की पांच सबसे जानलेवा, घातक और लाइलाज बीमारियां।

40 0

कोरोना को हमारी दुनिया में आए हुए करीब 2 साल हो गए है… इस घातक बीमारी ने आते ही दुनिया में तहलका मचा दिया था…. इस वायरस के संक्रमण से पुरी दुनिया में करीब लाखों लोगों की जान जा चुकी है।

कोरोना के कारण कई लोगो को दूसरी अन्य बीमारियों ने भी अपना शिकार बना लिया है। हालांकि ये सभी दूसरी बिमारियां जानलेवा नही है लेकिन दुनिया में कुछ ऐसी बिमारियां भी है जो इन्सानों के लिए जानलेवा साबित हो सकती है वहीं साइंस अभी तक इन बिमारियो के लिए कोई वेक्सीन नही बना पाई है। जिसकी वजह से ये 4 तरह की बिमारियां जानलेवा और लाइलाज है।

आइए जानते है इन गंभीर, जानलेवा और लाइजाल बिमारियों के बारे में।

1. मोटर न्यूरॉन

पुरी दुनिया में मशहुर स्टीफन हॉकिंग इस लाइलाज बिमारी से पीड़ित थे…अभी तक इस बीमारी का सटीक इलाज साइंटिस्ट नही खोज पाए है।

मोटर न्यूरॉन क्या है?

यह एक जानलेवा बीमारी है मोटर न्यूरॉन बीमारी इन्सान की मांसपेशियों के काम करने की क्षमता को मार देती है… और धीरे धीरे इसे जुड़े अंग भी काम करना बंद कर देते है। ये बीमारी किसी भी आयु में हो सकती है। फिलहाल ज्यादातर लोग 40 के बाद इस बीमार का शिकार होते है।

आप इसी बात से अंदाजा लगा सकते है कि मोरट न्यूऱॉन होने पर मरीज सांस लेने से लेकर खाना निगलने जैसे आसान काम को भी नही कर पाता। लाइलाज होने के कारण, पीड़ित मरीज में से केवल 5 फीसदी ही बच पाते है।

2. स्टोनमैन सिंड्रोम 

फाइब्रोडिस्प्लासिया ऑसिफिकन्स प्रोग्रेसिवा (एफओपी), जिसे स्टोनमैन सिंड्रोम या मुंचमेयर रोग भी कहा जाता है, यह एक दुर्लभ और गंभीर बीमारी है, इसका अभी तक कोई इलाज या उपचार नहीं है।

इस बीमारी से पीड़ित मरीज की हड्डी जब टूटती है तो वह सही जगह पर जुड़ नहीं पाती, कभी-कभी तो ऐसा होता है कि हड्डी दूसरी जगह जुड़ जाती है,

ये बीमारी बेहद दर्द देने वाली होती है… साइंस इस बीमारी का इलाज अभी तक ढूंढ रही है।

3. जेरोडर्मा पिगमेंटोसम

यह एक त्वचा से जुड़ी बीमारी है, इसमें पीड़ित को सूरज की रोशनी से एलर्जी होती है।

इस बीमारी में मरीज की त्वचा जैसे ही सूरज की धूप के संपर्क में आती है तो उसकी त्वचा में खुजली, जलन होने लगती है और छाले पड़ जाते हैं। फिलहाल इस बीमारी का भी अभी तक कोई इलाज उपलब्ध नहीं है। 

4. चगास रोग 

चगास रोग इसे, अमेरिकन ट्रिपैनोसोमियासिस भी कहा जाता है, यह एक परजीवी रोग है जो ट्रिपैनोसोमा क्रूजी के कारण होती है।

इस घातक बीमारी के होने की वजह व्यक्ति का सोते समय ‘किसिंग बग’ का शिकार होना है

इस बीमारी में मरीज के मुंह के पास घाव हो जाता है।

यह जानलेवा बीमारी व्यक्ति के तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करती है। जिसके कारण  शरीर में खून का संचार सही ढ़ंग से नहीं होता, और शरीर में कई तरह की समस्याएं पैदा होने लगती है

फिलहाल ये बीमारी लाइलाज नही है शुरुआती समय में इस संक्रमण का पता लगने पर कुछ दवाइयों का इस्तेमाल करके इससे बचा जा सकता है।

5. एपिडर्मोडिस्प्लासिया वेरुसीफोर्मिस  

इस बीमारी को ट्री मैन सिंड्रोम के नाम से भी जाना जाता है। यह एक दुर्लभ आनुवंशिक बीमारी है, ये एक लाइलाज बीमारी है

इसमें पीड़ित के हाथ और पेरों में पेड़ों की छाल जैसी संरचना उभरने लगती है। ये देखने में बेहद डरावनी और गंभीर बीमारी है

फिलहाल पूरी दुनिया में इस बीमारी से पीड़ित, कुछ ही लोग हैं। हालांकि सर्जरी के जरिए इसे हटा कर हाथ और पेरों को काम करने लायक बनाया जा सकता है। लेकिन ये पुरी तरह कारगर नही है। इस बीमारी का भी कोई इलाज नहीं है।

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published.