मजदूरों और कारीगरों के लिए बनाई गई थी (Jeans) जींस

81 0

आज के समय में जींस Jeans फेशन का दूसरा नाम है, जींस Jeans को हर उम्र का व्यक्ति पहनना पसंद करता है। कोई इसे आरामदायक समझता है जबकि कुछ लोग इसके लुक्स को लेकर दीवाने है।  

जींस से जुड़े रोचक तथ्य

आपको जानकर हैरानी होगी कि… आज जिस जींस Jeans को आप और हम फैशन के तौर पर पहनना पसंद करते है वहीं जींस Jeans एक जमाने में मजदूरों और कारीगरों की पोशाक हुआ करती थी। साल 1864 में मजदूरों, लक्कड़हारों और नाविकों के कपड़ों को लंबें समय तक चलाने और कम गंदे होने के मकसद से जींस Jeans को बनाना गया था।

ब्लू जींस Blue jeans को उत्तरी कोरिया में पहनना बेन है… इसकी वजह है कि उत्तरी कोरिया ब्लू जींस Blue jeans को अमेरिका का प्रतीक मानता है। जिसकी वजह से किम जोंग ने ब्लू जींस Blue jeans को उत्तर कोरिया में पहनने पर पांबदी लगाई हुई है।

Waist overalls जींस का असली नाम है। कपास की 325 जोड़े की एक गांठ को जींस बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

शुरुआती समय में महिलाओं के लिए जींस jeansपर जिपर सामने की तरफ ना होकर कमर की तरफ हुआ करती थी।

पूरी दुनिया में भारत, चीन और बांग्लादेश ही करीब 50 प्रतिशत डेनिम का निर्माण करते है।

जींस का रंग नीला ही क्यों?

आप सोच रहे होंगे, कि जींस का रंग नीला ही क्यों होता है। दरअसल पहली बार जब मजदूरों और कारीगरों के लिए जींस बनाई गई थी। तब इस बात का खासतौर पर ध्यान रखा गया कि, जींस जल्दी गंदी ना हो, इसलिए जींस का रंग नीला रखा गया। कॉटन से बनने वाली जींस का असली रंग सफेद होता है, इसे नीला रंग देने के लिए नेचुरल इडिगो डाई का इस्तेमाल किया जाता है।

जापान में जींस खरीदने के लिए वेंडिंग मशीन का इस्तेमाल किया जाता है।

सीक्रेट सर्कस जींस दुनिया की सबसे मंहगी जींस है इसकी एक जोड़ी जींस की कीमत 1.3 मिलियन डॉलर है।

डेनिम शब्द फ्रेंच की एक सिटी ‘डी नीम’ से लिया गया है इसका मतलब निमेस है।

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published.