भारत बन रहा है दुनिया का सबसे सस्ता दवाखाना

155 0

भारत दुनिया के सबसे सस्ते दवाखाने के रूप में ऊभर रहा है, जिसका सीधा लाभ अब फ़ार्मा निर्यात को होने वाला है। भारत वैश्विक दवाखाने के तौर पर जाना जाता है। इसकी वजह यह है कि दुनिया के लगभग 150 देशों में किसी न किसी रूप में भारतीय दवाओं का निर्यात होता है।

साल 2020-21 और 22 के दौरान दुनिया में कोरोना अपने पैर पसार रहा था उस वक्त भारत को लेकर दुनियाभर के लोगों ने यह चिंता ज़ाहिर की थी कि इतनी बड़ी जनसंख्या वाला देश आखिर कोरोना जैसी महामारी से कैसे निपटेगा? लेकिन भारत ने स्वदेशी वैक्सीन बनाकर न सिर्फ़ इस महामारी पर काबू पाया, बल्कि दुनिया के दूसरे देशों को भी अपनी वैक्सीन देकर वहां के लोगों का उपचार किया।

विश्वस्तर पर सस्ते दवाखानों रुप में ऊभरता भारत।

भारत अब दुनिया में सस्ते दवाखाने के तौर पर ऊभर रहा है, क्योंकि विश्व की 20 प्रतिशत जेनेरिक दवाएं भारत से सप्लाई की जाती है। कैंसर और एचआइवी जैसी घातक बीमारियों के लिए भारत में जो दवाएं उपलब्ध हैं वे दुनिया के अन्य देशों की दवाओं के मुकाबले काफी सस्ती हैं। युक्रेन और रूस के बीच छिड़े युद्ध के बाद अब रूस ने भी भारतीय दवा की मांग को बढ़ा दिया है। वैसे तो अब तक दुनियाभर के ज़्यादातर देशों में भारतीय दवाओं की सप्लाई होती थी, लेकिन अब उन देशों तक भी भारत की दवाएं पहुंचेंगी जिन्हें अब तक भारतीय दवाओं पर बहुत ज़्यादा भरोसा नहीं था।

साल 2020-21 में भारत से होने वाले दवाओं के निर्यात में 18 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। साल 2019-20 में यह आंकड़ा इस निर्यात के मुकाबले 18 प्रतिशत कम था। बता दें कि भारत से होने वाले दवाओं के निर्यात का आकार लगभग 50 बिलियन डॉलर का है।

Related Post

प्रधानमंत्री ने गुजरात में गांधीनगर और मुंबई के बीच नई वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाई।

Posted by - September 30, 2022 0
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने गांधीनगर-मुंबई वंदे भारत एक्सप्रेस को गांधीनगर स्टेशन पर हरी झंडी दिखाकर रवाना  किया और वहां से कालूपुर रेलवे स्टेशन तक उस ट्रेन से यात्रा की। जब वे गांधीनगर स्टेशन पहुंचे, तो प्रधानमंत्री के साथ गुजरात के मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल, गुजरात के राज्यपाल श्री आचार्य देवव्रत, केंद्रीय रेल मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव और केंद्रीय आवास एवं शहरी कार्य मंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी उपस्थित थे। प्रधानमंत्री ने वंदे भारत एक्सप्रेस 2.0 के ट्रेन के डिब्बों का निरीक्षण किया और ऑनबोर्ड सुविधाओं का जायजा लिया।श्री मोदी ने वंदे भारत एक्सप्रेस 2.0 के लोकोमोटिव इंजन के कंट्रोल सेंटर का भी निरीक्षण किया। इसके बाद प्रधानमंत्री ने गांधीनगर और मुंबई के बीच वंदे भारत एक्सप्रेस के नए और उन्नत वर्जन को हरी झंडी दिखाई और वहां से कालूपुर रेलवे स्टेशन तक ट्रेन से यात्रा की। प्रधानमंत्री ने रेल कर्मचारियों के परिवार के सदस्यों, महिला उद्यमियों और अनुसंधानकर्ताओं और युवाओं सहित अपने सह-यात्रियों के साथ भी बातचीत की। उन्होंने वंदे भारत ट्रेनों को सफल बनाने के लिए कड़ी मेहनत करने वाले श्रमिकों, इंजीनियरों और अन्य कर्मचारियों के साथ भी बातचीत की। गांधीनगर और मुंबई के बीच वंदे भारत एक्सप्रेस 2.0 गेम चेंजर साबित होगी और भारत के दो व्यापारिक केंद्रों के बीच कनेक्टिविटी को बढ़ावा देगी। इससे गुजरात के कारोबारियों को अहमदाबाद से गांधीनगर आने जाने के दौरान हवाई यात्रा जैसी सुविधाएं प्राप्त होगी और उन्हेंहवाई जहाज के महंगे किराए का वह भी नहीं उठाना होगा। गांधीनगर से मुंबई तक वंदे भारत एक्सप्रेस 2.0 से एक तरफ की यात्रा में लगभग 6-7 घंटे का समय लगने का अनुमान है। वंदे भारत एक्सप्रेस 2.0 का…

14 राज्यों को 7,183.42 करोड़ रुपये का राजस्व घाटा अनुदान जारी किया गया।

Posted by - October 7, 2022 0
वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग ने बुधवार को 14 राज्यों को 7,183.42 करोड़ रुपये के अंतरण पश्चात राजस्व घाटा (पीडीआरडी) अनुदान की सातवीं मासिक किस्त जारी की है यह अनुदान राशि पंद्रहवें वित्त आयोग की सिफारिशों के अनुसार जारी की गई है। पंद्रहवें वित्त आयोग ने वित्त वर्ष 2022-23 के लिए 14 राज्यों को कुल 86,201 करोड़ रुपये के अंतरण पश्चात राजस्व घाटा अनुदान की सिफारिश की है। यह सिफारिश की गई अनुदान राशि व्यय विभाग द्वारा सिफारिश किए गए राज्यों को 12 समान मासिक किश्तों में जारी की जाएगी। इस सातवीं किस्त के जारी होने के साथ वर्ष 2022-23 में राज्यों को जारी की गई राजस्व घाटा अनुदान की कुल राशि बढ़कर 50,283.92 करोड़ रुपये हो गई है।  संविधान के अनुच्छेद 275 के तहत राज्यों को अंतरण पश्चात राजस्व घाटा अनुदान प्रदान किया जाता है। यह अनुदान राशि राज्यों के अंतरण पश्चात राजस्व खातों में अंतर को पूरा करने के लिए वित्त आयोगों की क्रमिक सिफारिशों के अनुसार राज्यों को जारी की जाती है।  इस अनुदान को प्राप्त करने के लिए राज्यों की पात्रता और 2020-21 से 2025-26 तक की अवधि के लिए अनुदान की मात्रा का निर्धारण पंद्रहवें आयोग द्वारा राज्य के राजस्व और व्यय के आकलन के बीच के अंतर को ध्यान में रखते हुए किया गया था।  पंद्रहवें वित्त आयोग द्वारा 2022-23 के दौरान जिन राज्यों को अंतरण पश्चात राजस्व घाटा अनुदान की सिफारिश की गई है, उनमें- आंध्र प्रदेश, असम, हिमाचल प्रदेश, केरल, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, पंजाब, राजस्थान, सिक्किम, त्रिपुरा, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल शामिल हैं। वर्ष 2022-23 के लिए सिफारिश किए गए अंतरण पश्चात राजस्व घाटा अनुदान का राज्य-वार विवरण और राज्यों को तीसरी किस्त के रूप में जारी की गई राशि इस प्रकार हैः…

Leave a comment

Your email address will not be published.