भारत का ‘जामताड़ा’ साइबर क्राइम के लिए दुनिया में मशहूर।

141 0

भारत का एक ऐसा शहर जो साइबर क्राइम के नाम से पूरी दुनिया में मशहूर हो चुका है… देश में कहीं भी साइबर क्राइम हो इस शहर का नाम सबसे पहले आता है… ये शहर है जामताड़ा जो झारखंड में पड़ता है।

जामताड़ा क्यों प्रसिद्ध है।

जामताड़ा को फिशिंग केपिटल भी कहां जाता है। अब आप सोच रहे होगें की फिशिंग केपिटल का साइबर क्राइम से क्या वासता… दरअसर फिशिंग केपिटल का मतलब साइबर क्राइम यानि ऑनलाइन धोखाधड़ी होता है।

हाल ही में नेटफलिक्स ने अपने ओटीटी प्लेटफोर्म पर जामताड़ा नाम की एक वेब सीरीज को लेकर आया है। इस वेस सीरीज की कहानी जामताड़ा के रहने वाले युवाओं पर आधारित है जो 10वीं और 12वीं कक्षा से निकलकर कैसे इस साइबर क्राइम की दुनिया में आ जाते है। बेरोजगारी किस तरह इन युवाओं की जिंदगी को क्राइम की दुनिया में ले जाती है ये इस वेस सीरीज का आधार है।

जामताड़ा का इतिहास

इसके इतिहास पर नजर डालें तो एक समय ऐसा था जब जामताड़ा का करमाटांड ईश्वर चंद विध्यासागर के नाम से मशहुर हुआ करती थी… लेकिन आज कहानी कुछ ओर है… आज इस जगह को ठगी और साइबर क्राइम के नाम से जाना जाता है… भारत में कही पर भी कोई ऑनलाइन साइबर क्राइम हो सबसे पहले पुलिस का शक जामताड़ा पर ही जाता है।

जामताड़ा से करीब 17 किलोमीटर दूर करमाटांड का हर युवा जो ज्यादा बढ़ा लिखा भी नही है वो डिजिटल ठगी से पैसा बना रहा है। इन युवाओ ने बॉलीवुड स्टार, राजनेता, कारोबारी और बिल्डर्स को अपने छासें में लेकर लाखों का चुना लगा चुके है। आश्चर्य की बात तो ये है कि कम पढ़े लिखे होने के बावजूद जामताड़ा के युवा इतनी सफाई से साइबर क्राइम को अनजाम देते है कि आपकी बोलती बंद हो जाएगी।    

Related Post

14 राज्यों को 7,183.42 करोड़ रुपये का राजस्व घाटा अनुदान जारी किया गया।

Posted by - October 7, 2022 0
वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग ने बुधवार को 14 राज्यों को 7,183.42 करोड़ रुपये के अंतरण पश्चात राजस्व घाटा (पीडीआरडी) अनुदान की सातवीं मासिक किस्त जारी की है यह अनुदान राशि पंद्रहवें वित्त आयोग की सिफारिशों के अनुसार जारी की गई है। पंद्रहवें वित्त आयोग ने वित्त वर्ष 2022-23 के लिए 14 राज्यों को कुल 86,201 करोड़ रुपये के अंतरण पश्चात राजस्व घाटा अनुदान की सिफारिश की है। यह सिफारिश की गई अनुदान राशि व्यय विभाग द्वारा सिफारिश किए गए राज्यों को 12 समान मासिक किश्तों में जारी की जाएगी। इस सातवीं किस्त के जारी होने के साथ वर्ष 2022-23 में राज्यों को जारी की गई राजस्व घाटा अनुदान की कुल राशि बढ़कर 50,283.92 करोड़ रुपये हो गई है।  संविधान के अनुच्छेद 275 के तहत राज्यों को अंतरण पश्चात राजस्व घाटा अनुदान प्रदान किया जाता है। यह अनुदान राशि राज्यों के अंतरण पश्चात राजस्व खातों में अंतर को पूरा करने के लिए वित्त आयोगों की क्रमिक सिफारिशों के अनुसार राज्यों को जारी की जाती है।  इस अनुदान को प्राप्त करने के लिए राज्यों की पात्रता और 2020-21 से 2025-26 तक की अवधि के लिए अनुदान की मात्रा का निर्धारण पंद्रहवें आयोग द्वारा राज्य के राजस्व और व्यय के आकलन के बीच के अंतर को ध्यान में रखते हुए किया गया था।  पंद्रहवें वित्त आयोग द्वारा 2022-23 के दौरान जिन राज्यों को अंतरण पश्चात राजस्व घाटा अनुदान की सिफारिश की गई है, उनमें- आंध्र प्रदेश, असम, हिमाचल प्रदेश, केरल, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, पंजाब, राजस्थान, सिक्किम, त्रिपुरा, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल शामिल हैं। वर्ष 2022-23 के लिए सिफारिश किए गए अंतरण पश्चात राजस्व घाटा अनुदान का राज्य-वार विवरण और राज्यों को तीसरी किस्त के रूप में जारी की गई राशि इस प्रकार हैः…

Leave a comment

Your email address will not be published.