धरती पर कैसे इंसान एक जगह से पूरे ग्रह पर फैले? Svante Paabo ने अपनी इस स्‍टडी ने जीता नोबेल।

88 0
प्राचीन डीएनए के अपने अध्ययन के माध्यम से, आनुवंशिकीविद् स्वंते पाबो ने निएंडरथल की पहचान की है जो हम में से कई लोगों में छिपा हुआ है स्वीडन के Svante Paabo ने फिजियोलॉजी/मेडिसिन और मानव विकास की जानकारी में अपने योगदान के लिए नोबेल पुरस्कार जीता है.नोबेल पुरस्कार समिति का कहना है कि पाबो ने हमारे विलुप्त रिश्तेदारों में से एक - निएंडरथल (Neanderthals) के जेनेटिक कोड को क्रैक करने का असंभव काम कर दिखाया है।

पाबो ने मानवों के एक अज्ञात रिश्तेदार – डेनिसोवन्स (Denisovans) के बारे में जानकारियों को खोज निकाला है।

nobelprize.org

40 हजार साल पुराने DNA की सीक्‍वेंसिंग कर दिखाई: पाबो

स्वीडिश के रहने वाले आनुवंशिकीविद् पाबो के काम ने हमारे विकसित जीवन के इतिहास का पता लगाने में मदद की है। कैसे मनुष्य पृथ्वी पर एक जगह से पूरे ग्रह पर चारो ओर फैल गया। पाबो ने हमारे जीवन के बुनियादी सवालों के जवाबों को ढूंढ निकाला है। जैसी कि हम कहां से आए हैं और कैसे होमो सेपियन्स विकास क्रम में आगे बढ़ते गए जबकि हमारे रिश्तेदार विलुप्त हो गए थे।

nobelprize.org

90 के दशक में, ह्यूमन जेनेटिक कोड पर काम करने पर शोध तेज गति से हो रहा था. लेकिन यह प्राचीन DNA के ताजा नमूनों पर निर्भर था। प्रो पाबो की रुचि हमारे पूर्वजों से प्राप्त पुरानी और खराब हो चुकी जेनेटिक सामग्री में थी। कई वैज्ञानिकों के लिए ये एक असंभव चुनौती थी। लेकिन पाबो ने ये कर दिखाया और उन्होने पहली बार 40,000 साल पुराने हड्डी के टुकड़े से DNA सीक्‍वेंस करने में सफलता हासिल की है।

Related Post

भारत में हर साल हो रही लाखों टन खाने की बर्बादी, एक व्यक्ति इतना खाना करता है बर्बाद

Posted by - October 17, 2022 0
दुनिया में हर साल जितना खाना बर्बाद किया जाता है उतनें में विश्व की एक बड़ी जनसंख्या का पेट भरा…

Leave a comment

Your email address will not be published.