जनसंख्या के मामले में भारत ने चीन को पछाड़ा, धरती पर इंसानों की संख्या 800 करोड़ के पार।

36 0

धरती पर अब इंसानों की संख्या 800 करोड़ हो गई है। UN ने ट्विट करके बताया कि आज 15 नवंबर को धरती पर इंसानों की संख्या 800 करोड़ हो चुकी है। इस रिपोर्ट के मुताबिक जल्द ही भारत जनसंख्या के मामले में चीन को भी पछाड़ने वाला है।

साल 2100 तक इंसानों की आबादी

हमारी धरती पर इंसानों की जनसंख्या लगातार बढ़ रही है। 15 नवंबर तक हम इंसानों की कुल संख्या 8 बिलियन यानि 800 करोड़ हो चुकी है जो एक चिंता विषय है। UN सयुंक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के मुताबिक साल 2030 तक विश्व की कुल आबादी 8.5 अरब हो जाएगी। साथ ही 2050 तक दुनिया की आबादी 9.7 अरब के पार पहुंच जाएगी यही नही साल 2100 तक हम इंसान धरती पर 10.4 अरब हो जाएगे। इसका सबसे बड़ा कारण जन्म दर में बढ़ोत्तरी।

एक अनुमान के मुताबिक उन्ही देशों में जन्म दर अधिक है जहां प्रति व्यक्ति आय खासी कम है

भारत की जनसंख्या

सयुक्त राष्ट्र की इस गणना के मुताबिक साल 2023 तक भारत की जनसंख्या में खासी वृद्धि देखने को मिलेगी। भारत साल 2023 तक जनसंख्या के मामले में चीन को पछाड़ देगा। भारत दुनिया में सबसे ज्यादा आबादी वाला देश बन जाएगा। अभी फिलहाल चीन की आबादी 1.44 बिलियन है वहीं भारत की आबादी 1.39 बिलियन। बता दें दुनिया के सबसे अधिक वाले देश चीन और भारत है।

एक ऐसी पाकिस्तानी लड़की की कहानी जिसकी गर्दन 13 साल तक 90 डिग्री तक मुड़ी रही। सभी डॉ. ने मानी हार लेकिन हिंदुस्तान के एक डॉक्टर ने इस बच्ची को दी नई जिंदगी।

जन्म दर में आई कमी

कई देशों में जन्म दर में कमी आई है साल 1950 के बाद ऐसा पहली बार हुआ है कि जनसंख्या की रफ्तार धीमी हुई है। आंकड़ो पर नजर डाले तो साल 2020 में जनसंख्या की दर में 1 प्रतिशत से भी कम की बढ़ोत्तरी हुई है। जो कि चिंता का विषय है। साल 2022 के लिए UN रिपोर्ट के मुताबिक पिछले कुछ दशकों में कई देशों की प्रजनन क्षमता में तेजी से गिरावट देखने को मिली है। रिसर्च के अनुसार दुनिया की आबादी का दो-तिहाई हिस्सा ऐसी जगह पर रहता है जहां महिलाओं की प्रजनन दर में 2.1 फीसदी से भी ज्यादा की कमी आई है है।

जनसंख्या बढ़ने से क्या होगा

1.जनसंख्या भविष्य के लिए खतरा है। अगर ये बढ़ती है इसका सबसे बुरा प्रभाव पर्यावरण पर तो पड़ेगा ही साथ ही इसका असर आपकी निजी जिंदगी पर भी होगा।

2. जनसंख्या के बढ़ने से दुनिया में संसाधन घटने लगेंगे और हर चीज़ के लिए मारामारी होने लगेगी। आबादी बढ़ने से रोजगार की मांग बढ़ेगी, जिससे बेरोजगारी बढ़ेगी।

3.खाने-पीने की चीज़ो की मांग को पूरा करने के लिए इसकी गुणवत्ता से समझौता किया जाएगा, नतीजा यह होगा कि आने वाले समय में खाद्य पदार्थों में और ज्यादा मिलावट होगी।

4. धरती पर पीने योग्य पानी के स्त्रोत सीमित हैं. ऐसे में आबादी के बढ़ने से पानी की किल्लत होने लगेगी।

5. संसाधनों की मांग को पूरा करने के लिए इंसान पर्यावरण को औऱ नुकसान पहुंचाएगें, अपने फायदे के लिए पेड़ों और वनस्पतियों को खत्म करेगें।

दुनिया की बढ़ती आबादी भविष्य के लिए एक भयानक खतरा है

अब समय है कि हम इस पर अभी ध्यान दें, ताकि आने वीली पीढ़ी को एक अच्छा जीवन जीने का मौका मिले

Related Post

धरती पर कैसे इंसान एक जगह से पूरे ग्रह पर फैले? Svante Paabo ने अपनी इस स्‍टडी ने जीता नोबेल।

Posted by - October 5, 2022 0
प्राचीन डीएनए के अपने अध्ययन के माध्यम से, आनुवंशिकीविद् स्वंते पाबो ने निएंडरथल की पहचान की है जो हम में…

Leave a comment

Your email address will not be published.