गाज़ियाबाद के Radisson Blu होटल के मालिक ने संदिग्ध हालात में की खुदकुशी, मगर क्यों?

38 0

दिल्ली से गाज़ियाबाद के कौशांबी इलाके के होटल रेडिसन ब्लू Radisson Blu के मालिक ने पंखे से लटक कर खुदकुशी कर ली है। मरने वाले की शिनाख्त अमित जैन के रूप में हुई है, जिनकी उम्र लगभग 50 साल बताई जा रही है। हालांकि, अब तक पुलिस को मृतक के पास से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है।

शुरुआती जांच में इस बात का खुलासा हुआ है कि रेडिसन ब्लू के मालिक अमित जैन ने कर्ज़ होने की वजह से आत्महत्या की है। पुलिस ने इस घटना की जांच शुरू कर दी है और शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है। शनिवार को गाजियाबाद के कौशांबी स्थित रेडिसन ब्लू होटल के मालिक अमित जैन पर्वी दिल्ली के राष्ट्रमंडल खेल गांव में बने अपने आवास पर मृत पाए गए थे।

क्या आप जानते है पूरी दुनिया में ट्विटर पर सबसे ज्यादा किसके फोलोवर्स है? इस लिस्ट में नरेंद्र मोदी भी शामिल है।


कार ड्राइवर के घर पहुंचने पर मिली आत्महत्या की जानकारी

शुरुआती जांच में यह पता चला है कि अमित जैन का ड्राइवर उन्हें लेने के लिए घर पहुंचा था। कई बार दरवाज़ा खटखटाने पर भी जब किसी ने दरवाज़ा नहीं खोला, तो ड्राइवर ने इसकी खबर सोसायटी वालों को दी। इसके बाद पुलिस को इस बात की सूचना दी गई। जब पुलिस मौके पर पहुंची तो अमित की लाश पंखे से टंगी हुई मिली। हालांकि, इस दौरान मृतक के आस-पास किसी भी तरह का कोई सुसाइड नोट नहीं मिला जिससे इस बात की पुष्टि हो सके कि उन्होंने सुसाइड क्यों किया।


कर्ज़ न चुका पाने की वजह से काफी परेशान थे अमित जैन

पारिवारिक सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक कोडिव के दौरान होटल इंडस्ट्री को काफी नुकसान पहुंचा था। इस दौरान रेडिसन ब्लू के मालिक अमित जैन को भी खासा नुकसान सहना पड़ा था। इस नुकसान की भरपाई करने के लिए उन्होंने बैंकों से कई सौ करोड़ रुपये का कर्ज़ ले रखा था। लेकिन वे इस कर्ज़ को चुना नहीं पा रहे थे। माना जा रहा है कि यही मुख्य वजह है जिसके चलते अमित ने आत्महत्या कर ली।

Related Post

भारत में हर साल हो रही लाखों टन खाने की बर्बादी, एक व्यक्ति इतना खाना करता है बर्बाद

Posted by - October 17, 2022 0
दुनिया में हर साल जितना खाना बर्बाद किया जाता है उतनें में विश्व की एक बड़ी जनसंख्या का पेट भरा…

14 राज्यों को 7,183.42 करोड़ रुपये का राजस्व घाटा अनुदान जारी किया गया।

Posted by - October 7, 2022 0
वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग ने बुधवार को 14 राज्यों को 7,183.42 करोड़ रुपये के अंतरण पश्चात राजस्व घाटा (पीडीआरडी) अनुदान की सातवीं मासिक किस्त जारी की है यह अनुदान राशि पंद्रहवें वित्त आयोग की सिफारिशों के अनुसार जारी की गई है। पंद्रहवें वित्त आयोग ने वित्त वर्ष 2022-23 के लिए 14 राज्यों को कुल 86,201 करोड़ रुपये के अंतरण पश्चात राजस्व घाटा अनुदान की सिफारिश की है। यह सिफारिश की गई अनुदान राशि व्यय विभाग द्वारा सिफारिश किए गए राज्यों को 12 समान मासिक किश्तों में जारी की जाएगी। इस सातवीं किस्त के जारी होने के साथ वर्ष 2022-23 में राज्यों को जारी की गई राजस्व घाटा अनुदान की कुल राशि बढ़कर 50,283.92 करोड़ रुपये हो गई है।  संविधान के अनुच्छेद 275 के तहत राज्यों को अंतरण पश्चात राजस्व घाटा अनुदान प्रदान किया जाता है। यह अनुदान राशि राज्यों के अंतरण पश्चात राजस्व खातों में अंतर को पूरा करने के लिए वित्त आयोगों की क्रमिक सिफारिशों के अनुसार राज्यों को जारी की जाती है।  इस अनुदान को प्राप्त करने के लिए राज्यों की पात्रता और 2020-21 से 2025-26 तक की अवधि के लिए अनुदान की मात्रा का निर्धारण पंद्रहवें आयोग द्वारा राज्य के राजस्व और व्यय के आकलन के बीच के अंतर को ध्यान में रखते हुए किया गया था।  पंद्रहवें वित्त आयोग द्वारा 2022-23 के दौरान जिन राज्यों को अंतरण पश्चात राजस्व घाटा अनुदान की सिफारिश की गई है, उनमें- आंध्र प्रदेश, असम, हिमाचल प्रदेश, केरल, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, पंजाब, राजस्थान, सिक्किम, त्रिपुरा, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल शामिल हैं। वर्ष 2022-23 के लिए सिफारिश किए गए अंतरण पश्चात राजस्व घाटा अनुदान का राज्य-वार विवरण और राज्यों को तीसरी किस्त के रूप में जारी की गई राशि इस प्रकार हैः…

Leave a comment

Your email address will not be published.