आखिर भारत सेंधा नमक के लिए पाकिस्तान पर निर्भर क्यों है।

64 0

भारत के गुजरात में नमक का सबसे ज्यादा उत्पादन किया जाता है। लेकिन सेंधा नमक की पूर्ति के लिए भारत पाकिस्तान पर निर्भर है। भारत के मुकाबले पाकिस्तान में सेंधा नमक का सबसे ज्यादा उत्पादन किया जाता है। जानकारों की माने तो भारत ने साल 2018-19 के दौरान जितना सेंधा नमक आयात किया था उसमें पाकिस्तान से 99 प्रतिशत आयात किया गया है।

indiainfo

भारत में कितना होता है नमक का उत्पादन

आपको बता दें कि दुनिया में नमक का सबसे ज्यादा उत्पादन चीन और अमेरिका के बाद भारत करता है। लिहाजा भारत नमक उत्पादन में दुनिया में तीसरे स्थान पर है। वहीं बात देश में सबसे ज्यादा नमक उत्पादन की बात करें तो गुजरात में भारत का सबसे ज्यादा नमक उत्पादन किया जाता है साल 2021-22 के दौरान देश में 266 लाख टन से भी ज्यादा नमक का उत्पादन किया गया था। जिसमें से 85 प्रतिशत यानि 227.65 लाख टन नमक गुजरात में उत्पाद हुआ था। बात दूसरे राज्यों में नमक उत्पादन की करें तो… तमिलनाडु में 17.21 लाख टन और राजस्थान मे 16.90 लाख टन नमक का उत्पादन हुआ था।

नमक विभाग की सालाना रिपोर्ट के अनुसार, साल 2020-21 के दौरान भारत में जितना नमक का उत्पादन होता है जिसमें से 76 लाख टन नमक का घरेलू स्तर पर इस्तेमाल होता है। जबकि विदेशों में 66 लाख टन नमक विदेशों में निर्यात किया जाता है। और बाकी का नमक कारोबार में भेजा जाता है।

भारत सेंधा नमक के लिए पाकिस्तान पर निर्भर क्यों।

नमक का उत्पादन करने में भारत तीसरे स्थान पर है। साल 2020-21 के दौरान भारत ने लगभग 870 करोड़ रुपये का 66 लाख टन नमक का निर्यात हुआ था। भारत नमक का निर्यात चीन, दक्षिण कोरिया, जापान, कतर, इंडोनेशिया, वियतनाम, बांग्लादेश, नेपाल और ताइवान जैसे देशों में करता है ऐसा आप कह सकते है कि इन देशों में भारत का नमक खाया जाता है। हालांकि भारत सेंधा नमक के लिए हम पाकिस्तान पर निर्भर है।

देश में सेंधा नमक सबसे ज्यादा उपवास में उपयोग किया जाता है। वहीं कुछ साल व्रत रखने पर भी सेंधा नमक का सेवन किया जाता है। आपको जानकर हैरानी होगी की भारत में सेंधा नमक का उत्पादन होता ही नही है। पाकिस्तान भारत से कहीं आगे है। पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में खेवड़ा नाम की खदान है। इस खदान से हर साल करीब 4 लाख टन सेंधा नमक निकाला जाता है।

सेंधा नमक को सैंधव नमक, लाहौरी नमक, हैलाइट, गुलाबी नमक या हिमालयन नमक भी कहते है।

इंडियन ब्यरो ऑफ माइन्स की रिपोर्ट के अनुसार… साल 2018-19 के दौरान भारत ने सेंधा नमक का आयात 74 हजार 457 टन किया था। इसमें 74.413 टन यानि 99 प्रतिशत सेंधा नमक पाकिस्तान से आया था।

हालांकि भारत धीरे धीरे पाकिस्तान पर सेंधा नमक की निर्भरता को कम कर रहा है। भारत ने साल 2019-20 के दौरान 60,441 टन सेंधा नमक का आयात किया था। जिसमें से 31 प्रतिशत यानि 19,037 टन नमक पाकिस्तान से आया था। वहीं साल 2019-20 के दौरान भारत ने यूएई से 31,839 टन सेंधा नमक का आयात किया था। पाकिस्तान और यूएई के अलावा भारत ने ईरान, तुर्की, अफगानिस्तान, मलेशिया, जर्मनी और ऑस्ट्रेलिया से भी सेंधा नमक का आयात किया था।

दुनिया मे नमक की सबसे बड़ी खदान है खेवड़ा

पाकिस्तान में स्थित खेवड़ा की खदान कोह पहाड़ी पर है माना जाता है कि ये दुनिया की सबसे बड़ी नमक की खदान है। हर साल इस खदान से लगभग 4 लाख टन नमक निकाला जाता है। जिसमें सेंधा नमक 99 फीसदी होता है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक खेवड़ा की नमक खदान इतनी विशाल है कि इससे अगले 450 साल तक नमक की आपूर्ति की जा सकती है।

खेवड़ा खदान की खोज की कहानी भी बेहद रोचक है। माना जाता है कि अलेक्जेंडर जब झेलम नदी से होकर गुजर रहा था तब उनके घोड़ों ने ये खदान चाट ली थी। इससे अलेक्जेंटर के घोड़े ठीक हो गए थे। तब पहली बार पता चला था कि खेवड़ा में नमक की खदान है। हालांकि मुगलकाल के दौरान इस खदान से नमक का कारोबार किया जाता था।

WHO के मुताबिक एक दिन में नमक की सही मात्रा 5 ग्राम है इंसानों को एक दिन में करीब 5 ग्राम से ज्यादा नमक नही खाना चाहिए। वहीं आपको जानकर हैरानी होगी। कि भारत में 10 ग्राम नमक प्रति व्यक्ति खाता है जिससे हाइ ब्लड प्रेशर जैसी गंभीर बीमारियां हो सकती है। साल करीब 26 लाख लोगों की जान नमक की सही मात्रा ना खाते की वजह से हो जाती है।

आपकी थाली में जो नमक है वो इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है। इसकी वजह है देश की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने दिया नमक पर बयान।

हाल ही में देश की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू गुजरात दौरे पर गई हुई थी। वहां उन्होनें एक सभा को संबोधित करते हुए कहां कि गुजरात में देश का 76 प्रतिशत नमक बनता है। जिसका मतलब हुआ कि देश के सभी नागरिक गुजरात का ही नमक खाते है। द्रौपदी मुर्मू के इस बयान पर काग्रेंस नेता उदित राज ने ट्वीट किया और लिखा कि “ऐसी राष्ट्रपति किसी और देश को ना मिले… चमचागिरी करने की भी हद्द होती है। कहती है कि 70 प्रतिशत नमक खाते है, खुद नमक खाकर जिंदगी जिए तो पता लगेगा”।

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published.